27.6 C
New York
Tuesday, July 27, 2021

Top 10 Free Ahref Web Master SEO Tools (Hindi)

Ahref – The Top 10 SEO Ahref Web Master Tools (Hindi) क्या आप अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक लाना चाहते हो! Webposts को ट्रैक करना शायद ही किसी को आता है

आज हम सीखेंगे कि हम अपनी वेबसाइट पर हर एक व पोस्ट आर्टिकल को कैसे एनालाइज कर सकते हैं अपनी वेबसाइट की गूगल पर रैंकिंग कैसे बढ़ा सकते हो

how to use ahref web webmaster tools free
how to use ahref web webmaster tools free

वेबसाइट के Owners के लिए जिनकी अपनी खुद की वेबसाइट है to दिमाग में ऐसा बहुत कुछ आता है जैसे के :

  1. वेबसाइट पर ट्रैफिक कैसे लाना है?
  2. गूगल पर रैंक करवाने क लिए क्या करना चाहिए ?
  3. वेबसाइट को Monetize कैसे करे

जानते है आपके AHREF फ्री टूल के बारे में, के यह कैसा टूल है और कैसे काम करता है? वेबसाइट की सारी पोल खोल के रख देगा

Ahref web master tool (AWT)  एक ऐसा टूल जो गूगल सर्च कंसोल से कहीं ज्यादा बेहतर है !

फ्री में अपनी वेबसाइट पर एक रेफरिंग लिंक, Referring Domains, Top pages of Websites, Competition Domains, Internal Backlinks, broken Links,वेबसाइट ट्रेफिक वेबसाइट का Seo बढ़ाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हो। 

AWT AHREF Web master tools
AWT AHREF Web master tools

गूगल सर्च कंसोल और Ahref Awt टूल दोनों में फर्क क्या है ?

वेबसाइट की ओनरशिप को वेरीफाई करना पड़ता है!

SITAMP, Website ट्राफिक, Coverage पेजेस, Index ability सब सही किया जा सकता है

पेजेज को क्रॉल करके दिखता है

यह क्रॉल और इंडेक्सबिलिटी दोनों करता है

गूगल सर्च कंसोल हमारी वेबसाइट पर सारे पेजेस और Posts को भी गूगल पर इंडेक्स करता है!

AHREF में आप सब चेक कर सकते हो पर सही कुछ भी नहीं कर सकते

Google Search Console vs AHREF
Google Search Console vs AHREF

AHREF WEBMASTER TOOL के बारे में जानते हैं

अब हम बात करते हैं AWT (AHREF WEBMASTER TOOL) के बारे में ! यह पहले Paid था और इसे चलाने के लिए आपको पैसे देने पड़ते थे ! आप इसका एक Paid प्लान लेते हो तो आप अपनी वेबसाइट के लिए कीवर्ड को रिसर्च कर सकते हो ! साइट को एक्सप्लोर कर सकते हो! इससे आपकी वेबसाइट गूगल पर आसानी से Rank हो जाएगी

वेबसाइट का Site Audit कर सकते हो, Content चेक कर सकते हो ! कंटेंट जो के जल्दी GROW कर जाते हैं ऐसे कंटेंट को आसानी से ढून्ढ सकते हो !

check website ranking in india
check website ranking in india

AWT टूल को अभी फ्री कर दिया गया है! वेबसाइट का यूआरएल यहां पर डालें और चेक करे अपनी वेबसाइट का traffic , बैकलिंक्स, Referring Domain, Pages कितने है !

गूगल पर पोजीशन चेक करो , पेजेज जो क्रॉल हो रहे है, जो नहीं हो रहे, कोन से कभी भी नहीं हो पाएंगे !

AWT हमारी वेबसाइट पर Issues और Problems को बताता है, इसे देखकर हम अपनी वेबसाइट पर कुछ Changes करते हैं

हमारी वेबसाइट आसानी से गूगल पर Rank कर जाती है, AWT टूल के माध्यम से आप अपनी वेबसाइट का SEO स्कोर भी बेहतर बना सकते हो 

Awt इस टूल को फ्री में इस्तेमाल करने के लिए आप यहां क्लिक करें,

how to check website index in google
how to check website index in google

Ahref Awt को फ्री में रजिस्टर कैसे करे

  • इस पर रजिस्टर करना बहुत आसान है!
  • वेबसाइट पर जाएँ
  • EMAIL ID SE SignUP करे
  • अपने हिसाब से CUSTOMIZATION करे
  • अब आराम से वेबसाइट issues और प्रॉब्लम्स को चेक कर सकते हो?

Ahref Awt में अपनी वेबसाइट कैसे ऐड करें

  • सबसे पहले हमें यहां एड प्रोजेक्ट पर क्लिक करना है
  • अगर आपके पास गूगल सर्च कंसोल है तो आप अपनी वेबसाइट के एनालिटिक्स को यहां पर इंपोर्ट कर सकते हो
  • आप यहां एक दो या 10 वेबसाइट्स को भी ऐड कर सकते हो
  • इंपोर्ट पर क्लिक करने के बाद अपनी जीमेल आईडी के साथ लॉगिन करें जिस आईडी से आप अपना गूगल सर्च कंसोल का अकाउंट चलाते हो
  • आप अपनी वेबसाइट पर एक्सटर्नल लिंक बाहर के लेंस को इंपोर्ट करना चाहते हो तो आप क्रॉल एक्सटर्नल लिंक पर क्लिक करें
  • अब आपकी वेबसाइट का सारा एनालिटिक्स यहां पर दिखने लग जाएगा
  • आपकी वेबसाइट पर रिफेरिंग डोमेन कितने है, बैकलिंक कितने हैं और ऑर्गेनिक ट्रैफिक कितना है और ऑर्गेनिक कीवर्ड कितने है
ahrefs free seo tools
ahrefs free seo tools

Top 10 Features of Ahref AwT SEO Tool

1.Refering domain

आपकी वेबसाइट्स का ahref पर कितना रैंक है? क्या आपने कभी चेक किया है?

Reffering Domains के नाम जिन्हो ने आपकी वेबसाइट पर VISIT किया था, इसकी जानकारी पाएं सिर्फ और सिर्फ इस टूल के माध्यम से

referring domain website checker
referring domain website checker

2.Check Backlinks

  • आप अपनी वेबसाइट के बैकलिंक्स को चेक कर सकते हो ! ज्यादा से ज्यादा बैकलिंक्स से आपकी वेबसाइट का प्रमोशन होगा ! आपकी वेबसाइट की पोस्ट का लिंक अपनी वेबसाइट में डालेगा तो आपको एक तरह से DO FOLLOW BACKLINKS दिया जाता है!
  • कुछ लोग ऐसे भी होते है जिनके पास वो कंटेंट नहीं होता तो वो आपकी वेबसाइट का लिंक दे देते है !
  • कोई यूजर किसी दुसरे की वेबसाइट पर जाता है उसे वो कंटेंट नहीं मिलता तो दुसरे की वेबसाइट से अगर वो आपकी वेबसाइट पर आता है तो तुम्हे इस तरीके से बैकलिंक्स मिलता है
  • इसका फायदा यह होता है कि लोगों की वेबसाइट पर आने वाले लोग को हमारी तरफ रीडायरेक्ट किया जाता है जिससे हमारी वेबसाइट पर भी ट्रैफिक आता है दूसरों की वेबसाइट पर दिए गए डू फॉलो बैक लिंक से
how to check backlinks
how to check backlinks

Internal Backlinks

यह बैकलिंक्स भी एक तरह से हमारी वेबसाइट पर ट्राफिक लाने में मदद करते हैं,

हम कोई पोस्ट लिख रहे हैं और अगर दूसरी पोस्ट का लिंक हमारी पहली पोस्ट के साथ लिंक होता है

जैसे केअगर मैं अपनी पोस्ट पर बता रहा हूं कि यूट्यूब चैनल कैसे बनाया जाता है? और दूसरी पोस्ट पर मैं यह लिख रहा हूं कि यट्यूब से पैसे कैसे कमाए जाते हैं?

इन दोनों पोस्ट में अलग-अलग तरीके से इन दोनों पोस्ट का लिंक भी दे सकता हूं जिससे मैं अपनी वेबसाइट पर इंटरनल BACKLINKS लिंक दे रहा हूं

इसका फायदा आपकी वेबसाइट पर पेजेज को एक्स्प्लोर किया जाता है और उतना ही ज्यादा ट्रैफिक generate होता है

how to find new backlinks on a website
how to find new backlinks on a website

3. Check Organic ट्रैफिक

यह एक ऐसा ट्राफिक होता है जब आप अपनी पोस्ट को वेबसाइट पर पोस्ट पब्लिश करते हो और उस पोस्ट को गूगल पर RANK किया जाता है

कोई यूजर अगर गूगल पर सर्च करके हमारी वेबसाइट तक पहुंच जाता है उसे कहते हैं हम organic ट्राफिक!

ऑर्गेनिक ट्रैफिक अलग-अलग देशों से भी आ सकता है जैसे कि कनाडा ऑस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड इंग्लैंड और बहुत सारी बाहर की कंट्री या इंडिया से भी आपको ऑर्गेनिक ट्राफिक आ सकता है

GOOGLE पर सर्च करके जब कोई हमारी वेबसाइट पर आता है तो उसे ही हम कहते हैं ORGANIC ट्रैफिक

जितने लोग गूगल पर सर्च करेंगे आपकी वेबसाइट तक पहुंचेंगे उतना ही आपको ऑर्गेनिक ट्राफिक मिलेगा जिससे आपकी वेबसाइट गूगल पर अच्छे रैंक पर पहुंच जाएगी

अगर कोई मेरी एक पोस्ट पर जाएगा तो वह वहां से दूसरी पोस्ट के लिंक पर क्लिक करके मेरी दूसरी पोस्ट पर भी जा सकता है, जिसे कहा जाता है इंटरनल बैकलिंक्स!

ट्रैफिक लाने क लिए यह ज्यादा से ज्यादा बनाने बहुत ज्यादा जरूरी है।

Search Traffic & KeywordsHow to find the keywords of a website?
Search Traffic & Keywords How to find the keywords of a website?

4. Top Competiting domain

  • कुछ ऐसे डोमेन जो आपके कॉम्पटीटर कहलाते हैं,जैसे कि अगर आपका एक TECH WEBSITE हैतो टेक के रिलेटेड जितनी भी वेबसाइट्स होंगी जो के बहुत ज्यादा मशहूर होंगी, उन वेबसाइट्स के डोमेन का नाम यहां पर मेंशन किया जायेगा कि आपके अस पास की वेबसाइट जो आगे बढ़ रहे हैं और डोमेन्स के नाम की लिस्ट यहां पर आपको मिल जाएगी
  • आप उस डोमेन को टारगेट करो
  • चेक करो के उसे ऐसा क्या किया है जो के वो ग्रो कर रहा है
  • उसके कंटेंट को देखो, कैसे रिप्रेजेंट किया है

जिससे आपको यह पता लग जाएगा कि आपका COMPETITOR कौन है और किस कॉम्पिटिटर से आपको आगे बढ़ना है और उन्होंने अपनी वेबसाइट पर ऐसा क्या किया हुआ है जिससे वह गूगल पर एक अच्छे मुकाम पर पहुंच गए हैं

गूगल पर रैंकिंग करवाने क लिए रोज़ाना वेबसाइट पर पोस्ट जरूर लिखे

how to check my competiting domain name
how to check my competiting domain name

5. Broken links

  • वेबसाइट पर कोई पोस्ट लिखते वक्त अगर कोई लिंक लगा देते हैं जैसे के फोटो या टेक्स्ट के पीछे लिंक अगर सही से नहीं लगता तो ब्रोकन लिंक कहलाया जाता है।
  • हम अपनी वेबसाइट पर बहुत सारे गलत लिंक डाल देते हैं जिसकी वजह से अगर कोई यूजर हमारी वेबसाइट पर विजिट करता है तो वह उस पर क्लिक करके अगले पेज तक नहीं पहुंच पाता

उदाहरण के तौर पर मैंने एक सॉफ्टवेयर का लिंक लगाना है तो मैंने एक बटन बनाया, उसके पीछे एक लिंक लगाया है और उस लिंक को मैंने गलत डाल दिया जैसे कि लास्ट के अक्षर या डिजिट को मैंने नहीं डाला है या पूरे लिंक को मैंने वहां पर नहीं अपडेट किया तो अगर यूजर वहां पर क्लिक करता है तो वह सॉफ्टवेयर कभी भी नहीं डाउनलोड कर पाएगा

how to check broken links in website
how to check broken links in website

6. Meta description

  • गूगल पर कुछ भी सर्च करते हैं तो टाइटल के नीचे जो जो भी लिखा होता है उसे हम मेटा डिस्क्रिप्शन कहते हैं, इसे यूजर को यह पता लग जाता है कि वह टाइटल और उस पोस्ट के अंदर क्या है?
  • META DESCRIPTION कभी भी हमें खाली नहीं छोड़नी चाहिए!
  • शुरू से आखिर तक भर देना चाहिए और उसमें कुछ टाइटल जैसे कि TITLE के Keywords को भी जरूर ऐड करना चाहिए!
  • मेट्रो डिस्क्रिप्शन लिखने के लिए आप यह TOOL को इस्तेमाल कर सकते हो!
  • आप फ्री में कोई भी टाइटल लिख सकते हो!
  • उसकी मेटा डिस्क्रिप्शन और टाइटल को भी देख सकते हो यह आपको रियल टाइम व्यू दिखाएगा!
  • Ahref टूल पर आपको सारी पोस्ट और पेजेस का मेटा डिस्क्रिप्शन दिखाया जाता है कि आपने किस का मेटा डिस्क्रिप्शन डाला है और किसका नहीं डाला है, आप हर एक पोस्ट का मेटा डिस्कशन देख सकते हो और अगर किसी का नहीं अपडेट किया तो आप उस पोस्ट पर जाकर मेटा डिस्क्रिप्शन डालकर अपनी पोस्ट को अपडेट कर सकते हो
how to check seo meta description
how to check seo meta description

7. Link explorer

  • लिक एक्सप्लोरर फीचर में आप अपनी वेबसाइट के हर एक लिंक को एक्सप्लोरर करके देख सकते हो उस लिंक को गूगल पर crawl किया गया है नहीं ।
  • गूगल पर पोस्ट को crawl करने से आपकी वेबसाइट को गूगल पर रैंक किया जाता है ।
  • आप अपनी वेबसाइट पर पोस्ट लिखते हो और उसे गूगल पर crawl नहीं कर पाते हो या लिंक एक्सप्लोरर नहीं चेक करते हो तो आपने अपनी वेबसाइट पर जितने भी पोस्ट पर आर्टिकल लिखे हैं वह सारे के सारे बेकार हो जाते हैं।
  • बिना क्रॉल किये लिंक को गूगल भी रैंक नहीं करता क्योंकि उस लगता है के आपको शायद इसकी जरूरत ही नहीं है।
  • कोई भी आपकी पोस्ट को गूगल पर कोई भी सर्च नहीं कर पाएगा और न ही वो गूगल पर दिखेगी
how to explorer page of web, page explorer website submission page
how to explorer page of web, page explorer website submission page

पोस्ट को रैंक करने के लिए आप यहाँ क्लिक करे

लिंक एक्सप्लोरर को अच्छे से इस्तेमाल करने के लिए अपनी वेबसाइट के हर एक पेज और पोस्ट को चेक करने के लिए लिंक एक्सप्लोरर को जरूर इस्तेमाल करें
अपनी वेबसाइट के सारे लिंक को सही से लगाएं ताकि गूगल क्रॉलर आपकी वेबसाइट के हर एक पेज को गूगल पर रैंक करें

website link explorer free seo tools
website link explorer free seo tools

8. Internal links

वेबसाइट पर ट्रैफिक बढ़ाने के लिए इंटरनल Links बहुत अच्छे होते हैं

उदाहरण के तौर पर अगर कोई यूजर हमारी वेबसाइट पर आता है और अगर वह आईपीएल को सर्च करता है तो हमारी वेबसाइट पर आज आईपीएल का आर्टिकल भी है तो वह वहां पर क्लिक करके आईपीएल आर्टिकल पर विजिट कर जाता है

उसे किसी तरह की कोई सब्सक्रिप्शन खरीदनी है तो हम अपनी वेबसाइट पर एक नया आर्टिकल लिखकर और उसका लिंक हम अपनी आईपीएल आर्टिकल के अंदर डालकर अपनी नई पोस्ट को अच्छे से रैंक करवा सकते हैं

Website पर ट्रैफिक बढ़ाने के लिए और भी बहुत सारे तरीके हैं जैसे कि मैंने अपने यूट्यूब चैनल पर भी बताया है और अगर आपको ट्रैफिक बढ़ने के लिए आर्टिकल चाहिए तो आप यह ट्रिक को इस्तेमाल कर सकते हो

how to check website internal pages free hindi
how to check website internal pages free hindi
  • अपनी वेबसाइट पर लिखी हर एक पोस्ट को अगर हम दूसरी या तीसरी पोस्ट के साथ लिंक कर देते हैं या उन्हें अलग-अलग पोस्ट के आर्टिकल्स के लिंक हम हर एक पोस्ट के अंदर डाल देते हैं तो कोई भी यूजर उस आर्टिकल्स को भी जरूर चेक करता है
  • इससे हमारी वेबसाइट पर इंटरनल बैकलिंक्स बन जाते हैं
  • इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि यूजर हमारी वेबसाइट पर बना रहता है और वह हमारी वेबसाइट को एक्सप्लोरर करता रहता है जिससे हमारी वेबसाइट पर ट्राफिक भी जनरेट होता रहता है

9. Indexability

इंडेक्स एबिलिटी एक ऐसा फीचर है जिससे आप अपनी वेबसाइट को इंडेक्स कर सकते हो ।

गूगल पर इंडेक्स करना कोई आसान बातनहीं होती इसके लिए आपको बहुत कुछ करना पड़ता है जैसे के साइट मैप, रोबोटिक्स, कैनॉनिकल टैग, मेटा डिस्क्रिप्शन, टाइटल, वेबसाइट इंदेक्साबिलिटी और रीडेबिलिटी ऐसे बहुत सारे फीचर्स और मोबाइल फैंड्री और यूजर फ्रेंडली आर्टिकल्स को जनरेट करना पड़ता है

अगर आप अपनी वेबसाइट पर यह नहीं कर पाते तो आपकी वेबसाइट कभी भी गूगल पर रैंक नहीं होती।

वेबसाइट को इंडेक्स करने के लिए आप इस आर्टिकल को देख सकते हैं

how to check website index in google
how to check website index in google

यह Graph आपको यह बताता है कि मेरी वेबसाइट पर टोटल कितने वेबपेजेस है?

  • कितने पेजेस को गूगल पर क्रॉल किया गया है?
  • कोन से यूआरएल को इंडेक्स कर दिया गया है?
  1. कौन सी ऐसी पेजेस है जिसे इंडेक्स किया जा सकता है और नहीं किया जा सकता!
  2. हमारी वेबसाइट पर कुछ ऐसे पेजेस भी होते हैं जिसे गूगल रोबोटिक्स की तरफ से ब्लॉक कर दिया जाता है और वह गूगल पर Rank नहीं हो पाते ऐसे सभी आर्टिकल को हम अपने इस AHREF के माध्यम से देख सकते हैं कि कौन सा इंडेक्स हुआ है कौन सा नहीं हुआ!
  3. जब कोई पोस्ट वेबसाइट की show नहीं होती तो sitemap को generate करना पड़ता है

SITEMAP जनरेट करने के लिए आप इस आर्टिकल को देख सकते हो

10. Website Rank

  • आपकी वेबसाइट गूगल पर कहां Rank करती है?
  • कौन सी पोजीशन पर रैंक कर रही है?
  • चेक करने के लिए शायद ही कोई ऐसी वेबसाइट बनी हो।
  • Ahref के माध्यम से आप अपनी वेबसाइट का रैंक, position चेक कर सकते हो।
  • Back links Website के जितने अच्छे होते हैं उतनी जल्दी Google पर हमारी वेबसाइट रैंक कर जाती।
  • ज्यादा बैकलिंक से हमारी website गूगल पर आसानी से रैंक हो जाती है
check website ranking in india
check website ranking in india

वेबसाइट ट्रेफिक बढ़ाने के लिए यह देखें

गूगल पर पोस्ट को रैंक कैसे करवाते हैं

पोस्ट और आर्टिकल कैसे लिखते हैं

पोस्ट लिखने के लिए कीवर्ड कैसे ढूंढते है

ट्रेंडिंग टॉपिक कैसे ढूंढते है

उम्मीद है आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी । कृपया अपना कमेंट मैं नाम ईमेल और मोबाइल नंबर जरूर छोड़ें, हम नई पोस्ट अपडेट करेंगे तो आपको मैसेज और ईमेल जरूर भेजेंगे.
हमारी वेबसाइट पर ऐसे ही आर्टिकल को अपडेट किया जाता है ।
जल्दी से आप हमारे युटुब चैनल कोो भी सब्सक्राइब कर ले

Write Guest Post
आगे भी बहुत सारी पोस्ट को देखने के लिए आप हमारे वेबसाइट mistersingh1000.com पर जरूर विजिट करो
अब हमें सोशल मीडिया अकाउंट पर भी फॉलो कर सकते हैं

@MisterSingh1000https://mistersingh1000.com
Hello Friends, I am Manpreet Singh, Search on YouTube - MISTERSINGH1000 Website - www.mistersingh1000.com If You have any query, leave your comment below. Thanks for visiting my website. I love you, Please Share, Support, Subscribe for more latest tech tips and tricks of Mobile, Computer, Laptop, Website Tutorials and YouTube Shortcuts to Grow, Learn SEO & digital marketing, Promote your content, Write a guest post, Click guest post, i will share on my website. Learn more making money online tricks and hacks. जय हिन्द, वन्दे मातरम|

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1,547FansLike
9,356FollowersFollow
1,489FollowersFollow
5,789FollowersFollow
348FollowersFollow
18,307SubscribersSubscribe

Latest Articles